व्याख्यान

बुधवार की संगोष्ठी

  1.  डॉ मनोहर कुमार, 4 नवंबर, 2014, "विस्टल ब्लॉइंग का औचित्य"
  2.  डॉ  प्रीतम बारुआ, "डवर्विन का मान होलिज़्म", 28 अक्टूबर, 2014
  3. प्रोफेसर कंचन महादेवन, "फिल्म, पर्सैप्शन एंड फिलॉसफी: इंटरसेक्शंस?" 14 अक्टूबर, 2014
  4. प्रो ए. रघुरामराजु, "गैर-अस्तित्व की समस्या का उत्खनन," 14 अक्टूबर, 2014
  5. प्रो. एस. पन्नेरसेल्वम, "दलित आत्म की पहचान का संदर्भ: एक घटनात्मक पढ़ना", 7 अक्टूबर, 2014।
  6. डॉ अनंत कुमार गिरी, "ट्रांसजेर्मिंग द साजिजेविज एंड ऑरजेक्टिव: ट्रांसपास्पेशियल विषय" ऑब्जेक्टटी, 21 सितंबर, 2014।
  7.  प्रोफेसर कीमा मैत्रा, "दिमाग की आत्मकथा विज्ञान: कुछ प्रारंभिक प्रतिबिंब", 2 सितंबर, 2014।
  8.  प्रो के श्रीनिवास, गांधी शांतिवादी, 7 अगस्त, 2014 '
  9. डॉ आकाश सिंह राठौड़, "पतला स्वराज: एक प्रामाणिक भारतीय राजनीतिक दर्शन की ओर अग्रसर", 14 अप्रैल, 2014।
  10. प्रोफेसर विनित हक्सर, "अपीष्ठता और अच्छे होने", 17 मार्च, 2014।
  11. डॉ माइकल बेकर, "धर्म धर्म में धर्मनिरपेक्ष राज्य", 3 मार्च, 2014।
  12. डॉ एडम बार्कमैन, "जस्टिस इन लव", 18 फरवरी, 2014।
  13. डॉ निशद पटनायक, "ट्रान्सेंडैंटल लॉजिक एंड मेथड इन द फर्स्ट क्रिटीक: ए फेनोनोलॉजिकल अप्राक", 11 फरवरी, 2014।
  14. प्रोफेसर हेनज वर्नर वेस्सेलर, 20 जनवरी, 2014।
  15. डॉ निलानंजन भौमिक, "इंडस्ट्री का भविष्य", 12 नवंबर, 2014।
  16. प्रोफेसर बाबू थलायथ "ज्ञान और संदर्भ: ज्ञान और ज्ञान प्रणाली की रियायतें", 21 अक्टूबर, 2014।
  17. मार्टिन लिन, "फिलॉसफी एंड इट्स हिस्ट्री, डिफ्लेशनिज्म एंड एपिस्टमोलॉजी", 8 अक्टूबर, 2014
  18. प्रोफेसर बिजॉय एच। बोरुआ, "द टू कन्सेप्टस् ऑफ द सेल्फ: पर्स्पेचिव और पर्सनल", 10 सितंबर, 2014।
  19. किम डियाज़, "पोस्ट-कॉलोनियल चेतना: पाउलो फ्रेयर के कंसांतिइज़ाकाओ और द प्रिज़न माइंडफुलनेस इंस्टीट्यूट", 16 मई, 2014।
  20. प्रोफेसर जुल्स साइमन, "हन्ना अरंडट: ए फेनोनोलॉजी ऑफ़ एक्सज़ली एंड द स्पीच-एट्स ऑफ अ पॉलिटिक्स ऑफ अहिंसा", 14 मई, 2014।
  21. प्रो. जे. ड्राडिक, "अतिव्यापी आम सहमति के दो अवधारणा", 28 अप्रैल, 2014।
  22. प्रो सोनिया सिक्का, "टीचिंग 'धर्म' और 'भारत में दर्शन' ', 26 मार्च 2014।
  23. प्रो. आर.सी. प्रधान, "मन और विश्व: पर पुनर्विचार मैकडोवेल का प्रकृतिवाद", 14 मार्च, 2014।
  24. डॉ साईता ब्रता दास, "शेलीिंग: मेटाफिज़िक्स एंड पॉलिटिक्स," 12 मार्च 2014।
  25. गेशे दोरजी दमदुल, "क्या वास्तविकता का वास्तविकता है? विभिन्न परिप्रेक्ष्य", 24 व 24 फरवरी, 2014।
  26. एरिक जैकसन, "कारण का धर्म", 3 फरवरी, 2014।
  27. प्रो अकील बिल्ग्राम, "लिबर्टी एंड इक्विटी", 14 जनवरी, 2014।
  28. प्रो गुलाम मुस्तफा, ख्वाजा "मिस्टीक ने कश्मीर का विचार", 30 अक्टूबर, 2013
  29. डॉ जीनवीव फ्राइसे, "प्रोफ़ाइल में लिंग, अवधारणा के सवाल और राजनीतिक वंशावली", 2 9 अक्टूबर, 2013।
  30. डॉ अकेला, "पूछताछ अंतरफलक: संरक्षित अज्ञान और इसका प्रतिनिधित्व", 23 अक्टूबर, 2013।
  31. डॉ अनुपम धार, "द बॉडी इन साइकोएनिलीसिस: डिस्ट्रक्चरिंग ए एबोरिजिनलाइजेशन", 1 9 अक्टूबर, 2013।
  32. डॉ रंजन मुखोपाध्याय, "फर्स्ट ऑर्डर पेडिकेट लॉजिक", 11 वीं, 12 वीं, 14 व 14 अक्टूबर, 2013
  33. डॉ रंजन मुखोपाध्याय, "औचित्य का शिक्षा", 17 वें और 18 अक्टूबर, 2013
  34. डॉ रंजन मुखोपाध्याय, "तारकी के सिद्धांत का सत्य", 9 और 10 अक्टूबर, 2013
  35. डॉ गेशे दोरजी दमदुल, "नागार्जुन के मध्यमाक दर्शनशास्त्र में अंतिम वास्तविकता: 1 अक्टूबर और 30 सितंबर 2013 को" स्पष्ट इरादा को रोशन "से निकालें।
  36. डॉ अरुद्रा बोररा, "बलात्कार और नैतिक व्याख्या", 24 सितंबर, 2013
  37. डॉ मिलिंद वाककर, "धार्मिक विधि: प्लॉटिनस, हेगेल हाईडेगर", 11 सितंबर, 2013
  38. प्रो पुरुषोत्तम बिलिमोरिया, "नशीद्युकुक्त के बाद से कुछ भी नहीं (नेस) के बारे में बहुत कुछ: भगवान, ईश्वर और नागार्जुन के बाद मुक्ति, और संकर", 6 सितंबर, 2013
  39. डॉ माइकल दुशे, "भारत में महिलाओं का अधिकार: श्रेणीबद्ध नैतिकता बनाम Egalitarian नैतिकता", 4 सितंबर, 2013
  40. डॉ अनीबबन दास, "नारीवादी सिद्धांत, डिंकन्स्ट्रक्शन एंड द पॉलिटिक्स ऑफ़ एम्बोडिमम", 2 9 अगस्त, 2013।
41.प्रोफेसर ए. रघुरामराजु, "हिंदू धर्म और बौद्धवाद के बीच का अंतर: एस राधाकृष्णन, बीआर अंबेडकर और टी.आर.वी. मूर्ति", 4 अगस्त, 2013।
42.प्रोफेसर बिस्वम्बर पही, "रिलेटिंग टू ट्रांडीन्स ऑफ़ लॉजिक", 21 मार्च, 2013
43.रेस्मुस थैबो जेन्सेन, "मैकडोवेल की असंबद्धतावाद और मेर्लेऊ-पॉन्टी की फेनमोनालॉजी ऑफ़ पर्सडेक्शन" पर। 30 जनवरी, 2013
44.प्रोफेसर एजाम अहमद, 1 नवंबर, 2012 को "एलएनाटिन एंड फ़्रीडम ओटोलॉजी ऑफ़ सोशल बीविंग इन कार्ल मार्क्स",
45.प्रो गेल एम प्रेस्बी, "ओडेरा ओरुका की सोशल एथिक्स फॉर अफ्रीका", 28 अगस्त, 2012
46. ​​डॉ राहेल एस ब्रेज़िज़, "अंडरस्टैंडिंग सेल्फ एंड अदर: ए व्यू विद नेरेटिव मेमोरी", 1 9 अप्रैल 2012।
47.आइची लिवियाना मेस्सिना, लेविस के विचार में शांति और न्याय ", 17 अप्रैल, 2012।
48.प्रो टी.एस. रुक्मनी, "कितने अधिकारा क्या एक टिप्पणीकार को एक पाठ का अर्थ समझना है?" 4 अप्रैल, 2012
49.प्रो बीरगिट केल्नेर, "बौद्ध धर्म में रखने का कारण: परमात्मा पर परमात्मा परंपरा", 22 मार्च, 2012
50.लियोनार्ड हैरिस, "यूनिवर्सल मानव लिबरेशन: एलन एल लोके एंड क्रिटिकल व्यावहारिकता", 24 फरवरी, 2012।
51.प्रो सोनिया किक्का "हेइडेगर, (नो-) स्व और उत्तरदायित्व", 16 फरवरी, 2012
52.डॉ रंजन पांडा, "एक आधिकारिक एजेंट के गुण", 14 फरवरी, 2012
53.डॉ प्रसन्नजीत बिस्वास, "भाषा, जीवन और अपोरेरिया: एक आलोचनात्मकता", 12 जनवरी, 2012।
54.प्रो फ्रांकोइस दस्तानुर, "द न्यू इमेज ऑफ़ मैन: इन द वेस्टर्न फिलॉसफी ऑफ़ द 20 वीं सदी", दिसंबर, 2011।
55.प्रो सानिल व "हेगेल का समकालीन रिसेप्शन", 2 दिसंबर, 2011
56.डॉ शशि मोतीलाल, "मानव अधिकार और मानव नैतिक दायित्व: धर्म की अवधारणा के प्राचीन और आधुनिक व्याख्याओं पर कुछ दृष्टिकोण, 16 नवंबर, 2011
57. प्रो सैनील वी, "स्व-चित्र: दर्शन और मिरर-कार्य", 9 नवंबर, 2011
58.डॉ बिंदू पुरी, "स्वयं की गतिशीलता और" अन्य ": टैगोर और गांधी के बीच बहस का पुनः निर्माण", 2 नवंबर, 2011
59.प्रो एस. पन्नेरसेल्वम, "द कल्चरल पैराडाइम ऑफ द फिलॉसफी ऑफ़ तमिल्स", 28 अक्टूबर, 2011
60.डॉ भारती पुरी, "भारत के सार्वजनिक क्षेत्र में बौद्ध धर्म", 21 अक्टूबर, 2011।
61.प्रो गोपाल गुरू, "भारतीय लोकतंत्र का नैतिक रूपरेखा", 12 अक्टूबर, 2011
62.डॉ निवेदिता गंगोपाध्याय, "एम्बोडिड कॉग्निशन अपॉचर्स टू सोशल कॉग्निशन", 26 अगस्त, 2011।
63.प्रो परिमल जी पाटिल, "धर्मकर्ती का श्वेत जीवन (बौद्ध कार्यक्रम संबंधी परंपराएं) 14 मार्च, 2011
64.डॉ सोनिया किक्का, "हाइडेगर के क्रिटिक ऑफ़ मॉरनिटी एंड द टास्क ऑफ इमेजिंग संभावित फ्यूचर्स," 4 मार्च, 2011।
65.डॉ अश्विनी के। पिटुश, "द गैर-पश्चिमी चैलेंज टू ह्यूमन राइट्स", 28 फरवरी, 2011।
66.प्रोफेसर क्रिस्टोफर एल्टन मैकन, "फोटोग्राफी एज़ आत्मकथा", 18 फरवरी, 2011।
67.प्रो रिचोर सोरबजी, "गांधी ए ए फिलॉसॉफ़र", 2 फरवरी, 2011
68.प्रो सदन चक्रवर्ती, "यथार्थवाद और इसकी वैकल्पिक", 28 जनवरी, 2011।
69.प्रो पुरुषोत्तम बिलिमोरिया, "हेगेल का ओरिएंटलिज्म", 14 जनवरी, 2011
70.प्रो मुरली रामचंद्रन, "ज्ञान, जानना कि एक जानता है और निर्विवादता", 7 जनवरी, 2011।