आन्तरिक एशियाई अध्ययन के लिए केंद्र

आंतरिक एशियाई अध्ययन के लिए केंद्र, अंतराष्ट्रीय अध्ययन का स्कूल जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय जो कि पूरे मध्यम एशिया की शिक्षा और शोध के साथ जुड़ा हुआ है। जिसमे पांच मध्यम एशियाई उजबेकिस्तान का लोकतंत्र, तजाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, क्य्रजिकस्तान और कजाकस्तान; तिब्बत और चीन के शिनजिन क्षेत्र; मंगोलिया और अफगानिस्थान जो शुरुआत से मध्यम एशियाई अध्ययन प्रोग्राम, दक्षिण के लिए केंद्र , माध्यम, दक्षिणी एशियाई अध्ययन और दक्षिणी पश्चिमी प्रशांत अध्ययन द्वारा किया जाता है। समय के साथ ये प्रोग्राम भारत में मध्यम एशियाई अध्ययन के लिए आधुनिक केंद्र के रूप में उभरा और राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने निपुण खोज कार्य और प्रकाशन के लिए जाना गया ।इस शिक्षाविद प्रोग्राम ने भारत के लोगों और अधिकारियों का मध्यम एशियाई के सिर्फ मुख्य निर्माण में मदद की है बल्कि इसने भारत की संस्कृति को माध्यम एशियाई के पडोसी तक बढ़ाने में भी अपना योगदान दिया है ।इसे योगदान को ध्यान में रखते हुए , संस्था ने विश्वविद्यालय को २००१ में इस प्रोग्राम को क्षेत्र अध्ययन प्रोग्राम के लिए स्वीकृति प्रदान की । बाहरी कार्यों के मंत्रालय,भारत सरकार ने २००७ में एक योजना शुरू की जिसके अनुसार मध्यम एशियाई लोकतंत्र से इस प्रोग्राम में प्रत्येक सत्र(जो छ: महीने का होता है) में नियमित आधार पर तीन विद्वानों को बुलाया जायेगा।

 

विश्वविद्यालय के पास इन मध्यम एशियाई लोकतंत्र के विद्वानों की मेजबानी के लिए रहने का प्रबंधन भी प्रदान किया जाता है,नियमित आधार परसभी शिक्षाविद प्रक्रिया जिसमे शिक्षा और शोध शामिल है को इतिहास,राजनीति, समाज, अर्थव्यवस्था, उर्जा की जियोराजनीति और यातायात तंत्र के अध्ययन और संशोधन के लिए बनाया गया है न कि मध्यम एशियाई के विकास के लिए। चीन के मध्यम एशिया, अफगानिस्तान और मंगोलिया और इन्हें भारत के अनुभव और योजना के साथ मिलाना। १९८७ से १२० से ज्यादा एम्फिल और ८५ पिएचडी शोध विद्वान मध्यम एशियाई अध्ययन से जुड़े हुए हैं । जहाँ १०० एम फिल और ५३ पिएच डी विद्वान अपनी डिग्री प्राप्त कर चुके हैं, २० एम् फिल और ३२ पि एच डी अभी प्रगतिशील हैं।सही मायने में विद्यार्थियों और विद्वानों की दिए गए शोथ कार्य में रूचि बढ़ रही है।ऐसे आन्तरिक एशियाई अध्ययन अपने केंद्र के लिए खुद को शिक्षाविद निपुणता ऊपर बताये गए क्षेत्र में विकास करने की कोशिश कर रहा है।