IPM जिम्मेदारी

एक ज़िम्मेदारी

IPM सेल विश्वविद्यालय की सहायता, अपने बौद्धिक संपदा (आईपी) का प्रबंधन सभी स्कूलों / विश्वविद्यालय के केंद्र के आईपी पेटेंट, कॉपीराइट और लाइसेंस के लिए सेवाएं प्रदान करने के होगा IPM सेल भारत / विदेश में पेटेंट आवेदनों फाइल और अन्य दस्तावेजों को निष्पादित करने के लिए विश्वविद्यालय की सहायता करेगा ; लाइसेंस, और सामग्री हस्तांतरण समझौते पर अमल; गोपनीयता और गैर प्रकटीकरण समझौते में दर्ज करें, और बौद्धिक संपदा और गोपनीयता / गैर प्रकटीकरण समझौते से संबंधित अन्य दस्तावेजों को निष्पादित IPM सेल इस तरह के आदि प्रकाशनों के लिए कॉपीराइट , सॉफ्टवेयर, सेल भी प्रौद्योगिकी महत्वपूर्ण परियोजनाओं के मानचित्रण / प्रौद्योगिकी स्कैनिंग पर जांचकर्ताओं मदद करेंगे के रूप में किया जा रहा आईपीआर से संबंधित मुद्दों को संभाल लेंगे

समय-समय पर IPM सेल IPM की मूल अवधारणा और विशेषज्ञों के साथ बातचीत के माध्यम से भारतीय संदर्भ में अपनी सामरिक भूमिका के लिए प्रतिभागियों का पर्दाफाश करने के लिए संगोष्ठियों और प्रस्तुतियों का आयोजन कर सकते हैं।

बी संगठन 

IPM सेल 26 जून वर्ष 2016 से प्रभावी दो साल की अवधि के लिए निम्नलिखित संगठनात्मक संरचना करना होगा: 

IPM सेल के सदस्य

 

1. प्रो हिमाद्री बी बोहिदर, एसपीएस

अध्यक्ष 

2. प्रो आरके त्यागी SCMM

सदस्य

3. प्रो भरत देसाई, CILS / एसआईएस

सदस्य

4. प्रो दिनेश मोहन, एसईएस

सदस्य

5. डॉ अनिल कुमार, स्टाफ वैज्ञानिक एवं आईपीआर प्रभारी, एनआईआई    

सदस्य (बाहरी विशेषज्ञ)

6. प्रो अश्विनी पारीक, एसएलएस  

सदस्य

7. डॉ रंजना आर्य, एसबीटी             

सदस्य

8. डॉ विजय पाल यादव, एसईएस           

सदस्य

9. वित्त अधिकारी, जेएनयू या उनके नामित

सदस्य

10 डीआर / ए.आर., कानूनी सेल        

सदस्य सचिव

पेटेंट वकीलों के एक पैनल ने जो दोनों कानूनी और वित्तीय मामलों के लिए सलाहकार के रूप में काम करेंगे।

सी वित्तीय सहायता 

Financial resources needed to establish IPM cell would initially be provided out of the funds granted under the University with Potential for Excellence Scheme or out of the funds which may be sanctioned by University Grants Commission in future Five Year Plans. Additionally, the patent filing costs could be met from any of the following sources.

IPM Cell’s resources 
Paid by the inventor through project grants 
Through external agencies like NRDC, TIFAC, BCIL etc. 
Some of the funding agencies sanction grants only on the condition that the technology developed as a result of the project funded by them will belong to them. In that case the inventor has to follow the conditions laid down by the funding agency.

D. Benefit Sharing

Universities the world over have acknowledge the claims of academic creators to have some share in the income derived from the technology transfer. The revenue received as a result of patents in the form of cash royalties and/or equity shall be distributed in such a manner as to encourage technology development and its transfer.

Proposed Benefit Sharing - The benefits received by the University on account of technology transfer in a year shall be shared between inventor’s team and the University as per Resolution No. 6.17 of EC meeting held on 16.10.2003[Notification No. Acad II/U/13(7) dated 10.02.2004] in the following manner:

(i) money received upto 30% of           No Sharing 
the gross salary (basic+DA+CCA)

(ii) money received beyond 30%          70:30 between the inventor’s team 
and upto the gross salary                   and the University

(iii) money received beyond                50:50 between the inventor’s team 
gross salary                                     and the University

E. Conflict of Interest and its Settlement 

If an inventor has a grievance about the University's handling of intellectual property, he/she can take the benefit of the Grievance Redressal Mechanism already existed in the University.*source:- approved in EC on 29/11/06 and received the document from IPM Cell and uploaded on the website on 26/11/07