जवाहरलाल नेहरु  विश्वविद्यालय(जेएनयु), नई दिल्ली भारत में  1984 में बायोटेक्नोलॉजी में  स्नाकोत्तर शिक्षा और खोज प्रोग्राम शुरू करने वाली छ: विश्वविद्यालय में से एक है ।1984 से ये विश्वविद्यालय ग्रांट संघ (युजीसी) और बायोटेक्नोलॉजी विभाग(डीबीटी) , भारत सरकार की विज्ञान और टेक्नोलॉजी विभाग के सामूहिक प्रयोजन के अंतर्गत बायो टेक्नोलॉजी के विशेष केंद्र की तरह कार्य कर रहा है।इससे शुरू करने के साथ, इसे बायोटेक्नोलॉजी शिक्षा प्रोग्राम को उत्साह के साथ शुरू किया गया था ताकि कार्यशक्ति पैदा की जाए जो बाद में देश की मांग पूरी करने वाली प्रशिक्षित दरिया बने।अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसकी वृद्धि, जिन्दगी के घेरे में इसके उपयोग और बायोटेक्नोलॉजी के लिए केंद्र के संकाय के योगदान  पर ध्यान देते हुए, जे एन यु के कार्यअधिकारी  परिषद ने बायोटेक्नोलॉजी के लिए विशेष केंद्र को २००६ में बायोटेक्नोलॉजी का स्कूल(एसबीटी) बनाने का निर्णय लिया।सालों में जेएनयु में बायोटेक्नोलॉजी प्रोग्राम ने शिक्षा के साथ साथ खोज के कार्यों में भी अपने आप को एक बड़े शिक्षाविद प्रोग्राम के तौर पर स्थापित किया है।स्कूल के संकाय को बायोटेक्नोलॉजी  शोथ के मूल और लागू तथ्यों में योगदान के लिए अंतर्राष्ट्रीय तौर पर जाना जाता है।