जेएनयु एक शोध विश्वविद्यालय है जो ज्ञान एवं शोध के सीमान्त क्षेत्रों की खोज करने में गर्व का अनुभव करता है । जेएनयु में करवाए जा रहे कई अध्ययनों में मानव विषयों की प्रतिभागिता होती है ।  तंत्रिका की चोट, बोलचाल बंद होने के अध्ययन, डिस्लेक्सिया तथा भाषा की विकास से जुड़ी समस्याओं की स्थिति में बोलचाल एवं भाषा की समस्या,  एसएलआई, बोलचाल एवं भाषा में सामान्य या देरी से पकड़ प्राप्त करने वाले बच्चों में संकलन, आवाज़ के तरीके की आनुवांशिकता आदि वे क्षेत्र हैं जिनपर अभी काम हो रहा है । एसएलएस में नेशनल सेंटर ऑफ़ एप्लाइड ह्यूमन जेनेटिक्स एवं अन्य कई केन्द्रों/ विद्यालयों में ऐसी कई परियोजनाएं चल रही हैं जिनमें मानव विषय शामिल हैं ।  उपरोक्त को ध्यान में रखते हुए जेएनयु एग्जीक्यूटिव कौंसिल ने दिनांक 3/09/08 को जारी किये गए अपने प्रस्ताव नंबर 5.3 में कोंस्टीट्यूशन ऑफ़ इंस्टिट्यूशनल एथिक्स रिव्यु बोर्ड (आईइआरबी – जेएनयु) को फैकल्टी के सदस्यों एवं शोध के विद्यार्थियों द्वारा जमा किये गए सभी शोध पत्रों का आंकलन करने की स्वीकृति दी है ।     

अनुस्थापन कार्यक्रम : एक रिपोर्ट

आईइआरबी का संविधान

इंस्टिट्यूशनल एथिक्स रिव्यु बोर्ड फॉर रिसर्च ऑफ़ ह्यूमन सब्जेक्ट्स की संवैधानिक रूप से स्थापना 3 सितम्बर 2008 को आयोजित एग्जीक्यूटिव कौंसिल की बैठक में पारित प्रस्ताव नंबर 5.3 के आधार पर आईसीएमआर के दिशा निर्देशों के हिसाब से फैकल्टी के सदस्यों एवं एम फिल / पीएचडी के छात्रों द्वारा मानव प्रतिभागियों पर आधारित शोध पत्र का आंकलन करने के लिए की गयी थी ।  अध्यक्ष एवं सदस्य – सेक्रेटरी का कार्यकाल पांच साल, जबकि पैनल के सदस्यों का कार्यकाल चुने जाने से तीन साल का होता है ।
 
ए ।  जेएनयु इसी द्वारा स्वीकृत आईइआरबी – जेएनयु का संविधान निम्नलिखित है :
      १. अध्यक्ष 
      २. मेडिकल अभ्यास से वैज्ञानिक (बाहरी)
      ३. मूलभूत विज्ञान से वैज्ञानिक (बाहरी)
      ४.  मूलभूत विज्ञान से वैज्ञानिक (आतंरिक, जेएनयु)
      ५. सामाजिक वैज्ञानिक / दार्शनिक / सामाजिक कार्यकर्त्ता (बाहरी)
      
६. सामाजिक वैज्ञानिक / दार्शनिक / सामाजिक कार्यकर्त्ता (आतंरिक, जेएनयु)
      ७. सलाहकार, अन्य संस्था के एथिक्स रिव्यु बोर्ड के सदस्य (आईसीएमआर, एम्स, आईसीजीइबी)
      ८. कानूनी सलाहकार (बाहरी)
     ९.  कानूनी सलाहकार (आतंरिक, जेएनयु)
    १०. सामान्य व्यक्ति  (एक या दो)
    ११. सदस्य – सेक्रेटरी (जेएनयु)
                                                      
 इनमें से हर वर्ग के लिए नामों के सुझाव भी इसी द्वारा 3 सितम्बर 2008 को हुई बैठक में आईसीएमआर के दिशा निर्देशों के अनुसार मानव विषयों पर शोध के लिए स्वीकृत किये गए थे । 2008 से कई परियोजना प्रस्ताव एवं एम फिल / पीएचडी शोध प्रस्ताव उन समितियों द्वारा आंकलित किये जा रहे हैं जिन्हें अध्यक्ष ने स्थापित किया हो तथा जिनमें ए में बताये अनुसार हर वर्ग का कम से कम एक व्यक्ति हो।
इसी ने 5 अप्रैल 2011 को आयोजित अपनी बैठक में प्रस्ताव नंबर 6.22 के द्वारा हर वर्ग के लिए नए नाम स्वीकृत किये थे । क्योंकि अध्यक्ष प्रोफेसर आर एन के बामेजाई ने एमवीडीटीयु, जम्मू में उप कुलाधिपति के रूप में स्थान ग्रहण किया है,  अतः प्रोफेसर शिव के सरीन, निदेशक, इंस्टिट्यूट ऑफ़ लिवर एंड बिलियरी साइंसेज, वसंत कुंज, नयी दिल्ली, का नाम अध्यक्ष अड़ के लिए चुने जाने की तिथि से पांच साल के कार्यकाल के लिए स्वीकृत किया गया है । प्रोफेसर आर एन के बामेजाई नीचे वर्ग 4 में दिए अनुसार  आईइआरबी के सदस्य, अर्थात मूलभूत विज्ञान के शोधकर्ता (आतंरिक) बने हुए हैं । कार्य जारी रखने के लिए इस पैनल में कुछ पुराने सदस्यों के भी नाम किसी अन्य अवधि के लिए शामिल किये गए हैं । हर वर्ग में चार से पांच नामों का पैनल है, जिससे कि किसी ख़ास परियोजना आंकलन बैठक की स्थापना करते समय हर वर्ग से कम से कम एक को शामिल किया जा सके । 
 
बी ।  प्रस्ताव नंबर 6.22 / इसी/5।4।2011  के आधार पर आईइआरबी – जेएनयु में नियुक्ति के लिए स्वीकृत नामों का पैनल : 
१ । अध्यक्ष   
    प्रोफेसर एस के सरीन, निदेशक, इंस्टिट्यूट फॉर लिवर एंड बिलियरी साइंसेज, वसंत कुंज, नयी दिल्ली 
 
२ । मेडिकल अभ्यास से वैज्ञानिक (बाहरी)
    १ ।  प्रोफेसर माधुरी बेहारी, प्रधान, डिपार्ट ऑफ़ न्यूरोसाइंसेज, एम्स, नयी दिल्ली – 110029
    २ ।   प्रोफेसर महेश अरोड़ा, प्रोफेसर ऑफ़ अनेस्थेसिया, एम्स, नयी दिल्ली – 110029
    ३।  प्रोफेसर एस सी मलिक, भूतपूर्व साइकाइट्री प्रोफेसर, एलएचएमसी, नयी दिल्ली – 110001
    ४।   डॉक्टर वी झा, डिपार्टमेंट ऑफ़ न्यूरोलोजी, पीजीआईएमइआर, चंडीगढ़
 
३। मूलभूत विज्ञान / शोधकर्ता (बाहरी)
     १। प्रोफेसर विजय कुमार, आईसीजीइबी, अरुणा आसफ अली मार्ग, नयी दिल्ली – ११००६७  
     २। प्रोफेसर अनिल त्यागी, दिल्ली विश्वविद्यालय, साउथ कैंपस, नयी दिल्ली – ११००२९
     ३। डॉक्टर गिरीश साहनी, निदेशक, आईएमटेक, चंडीगढ़
     ४ । प्रोफेसर नारायणन श्रीनिवासन, सीबीसीएस, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
     ५ । प्रोफेसर रमेश जुयाल, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ इम्युनोलोजी, नयी दिल्ली – ११००६७
              
४।  मूलभूत विज्ञान / शोधकर्ता (आतंरिक, जेएनयु)
     १। प्रोफेसर राजीव भट, एसबीटी 
     २। प्रोफेसर बी एन मलिक, एसएलएस 
     ३। प्रोफेसर अखिलेश पाण्डेय, एसपीएस 
     ४। प्रोफेसर आर एन के बामेजाई, एसएलएस, जेएनयु 
 
५।  सामाजिक वैज्ञानिक /दार्शनिक / कार्यकर्ता  (बाहरी)
      १ ।  डॉक्टर डी रघुनन्दन, दिल्ली साइंस सोसाइटी, नयी दिल्ली 
      २। प्रोफेसर कुसुम चोपड़ा, भूतपूर्व प्रोफेसर, सीएसआरडी, जेएनयु
      ३ । प्रोफेसर अरविन्द अग्रवाल, डीन, मानविकी, केन्द्रीय विश्वविद्यालय, हिमाचल प्रदेश, धर्मशाला
      ४ । प्रोफेसर रविंदर गर्गेश, प्रोफेसर ऑफ़ लिंग्विस्टिक्स, दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली – ११०००७ 
 
६। सामाजिक वैज्ञानिक /दार्शनिक / कार्यकर्ता (आतंरिक। जेएनयु)
     १।प्रोफेसर गुलशन दिएत्ल, सीडब्लूएएस, सिस 
     २ । प्रोफेसर सबरी मित्रा, सीसी एंड एसइएएस, एसएलएल एंड सीएस 
     ३ । प्रोफेसर गीता नम्बिसन, जेडएचसीइएस, एसएसएस 
     ४ । डॉक्टर आएशा किदवई, सीएल, एसएलएल एंड सीएस 
 
७ । सलाहकार / अन्य संस्थाओं के एथिक्स रिव्यु बोर्ड के सदस्य (बाहरी):
     १। डॉक्टर तृप्ति खन्ना, उप निदेशक, आईसीएमआर, नयी दिल्ली – ११००२९ 
     २ । डॉक्टर सुनील मित्तल, सदस्य, एथिक्स रिव्यु समिति, कॉसमॉस अस्पताल, नयी दिल्ली
     ३ । डॉक्टर राजकमल भटनागर, आईसीजीइबी, नयी दिल्ली – ११००६७
     ४ । डॉक्टर राकेश यादव, डिपार्टमेंट ऑफ़ कार्डियोलॉजी, एम्स, सदस्य, एथिक्स समिति, एस्कॉर्ट्स 
 
८।  कानूनी सलाहकार (बाहरी)
     १।  अधिवक्ता शशांक शेखर  
     २।  अधिवक्ता ओमिका दुबे  
     ३।  अधिवक्ता रुखसाना चौधरी  
     ४।  अधिवक्ता बुलबुल दास 
 
९।  कानूनी सलाहकार (आतंरिक, जेएनयु)
      १। प्रोफेसर अमिता सिंह, सीएसएलजी, जेएनयु  
     २। आभा यादव, कानूनी सेल, जेएनयु
 
१०।  साधारण व्यक्ति:
ऐसी स्थितियों में जहां बच्चे शोध में शामिल हैं, वहां अभिभावक, माता पिता, ख़ास विद्यालय के शिक्षकों आदि को आमंत्रित किया जा सकता है । ऐसी स्थितियों में जहां व्यस्क व्यक्ति अध्ययन में शामिल हों, वहाँ आईइआरबी के अध्यक्ष किसी को भी अपनी इच्छानुसार शामिल कर सकते हैं (आईइआरबी के अध्यक्ष की इच्छानुसार) ।  
 
११।  सदस्य सेक्रेटरी   
        प्रोफेसर अमिता सिंह, सीएसएलजी, जेएनयु  
 
 
 
कार्यकाल  :
पैनल के हर सदस्य का कार्यकाल तीन सालों का होगा, जिसके बाद इसी वर्ग के तीन नए नाम इसी, जेनयु के पास जमा करवा दिए जाएंगे, जिससे कि इन तीन में से एक को बाहर जा रहे व्यक्ति के स्थान पर नियुक्त किया जा सके ।कार्य जारी रखने के लिए अध्यक्ष एवं सदस्य सेक्रेटरी का कार्यकाल पांच साल का होगा । 
 
 
नियुक्ति की शर्तें 
आईसीएमआर के दिशा निर्देशों के अनुसार नियुक्त व्यक्ति को समिति के अधिकारों एवं जिम्मेदारियों के बारे में सूचित कर दिया जाएगा, एवं बाहरी सदस्यों को कैंपस में आयोजित हर सलाहकारी बैठक के लिए पारिश्रमिक प्राप्त होगा । 
 
प्रक्रिया 
इआरसी हर आवेदन, जिनमें एम फिल/ पीएचडी के शोध के प्रस्ताव तथा फैकल्टी द्वारा किसी भी तरह के आंकड़े के लिए मानव विषय आधारित किसी शोध प्रस्ताव के आंकलन के लिए हर दो महीनों में कम से कम एक बार या हर छमाही में कम से कम एक बार या ज़रुरत पड़ने पर अधिक बार बैठक करेगी । समिति के अंदरूनी सदस्य बाहरी सदस्यों को भेजने के पूर्व इन प्रस्तावों की जांच करेंगे। एक बैठक बुलाने के लिए कम से कम पांच व्यक्तियों, जिनमें अध्यक्ष तथा सदस्य सेक्रेटरी हों, की सहभागिता अनिवार्य है। 
 
प्रमाण पत्र 
एक बार जब आईइआरबी संतुष्ट हो जाए कि यह अध्ययन इसके विषयों के लिए किसी भी तरह से हानिकारक नहीं है, तब समिति अध्ययन के तय समय के लिए एक एथिकल क्लीयरेंस प्रमाण पत्र जारी करेगी ।,

समिति शोधकर्ता को विषयों से “जागरूक स्वीकृति” प्राप्त करने तथा विषयों के साथ कुछ बातों को गुप्त रखने की बात करने का भी सुझाव देगी ।
 
29 नवम्बर 2014 को एसओपी के बारे में बातचीत करने के लिए इंस्टिट्यूशनल एथिक्स रिव्यु बोर्ड मीटिंग के कार्य विवरण 

29 नवम्बर 2014 को एसओपी के बारे में बातचीत करने के लिए इंस्टिट्यूशनल एथिक्स रिव्यु बोर्ड मीटिंग के कार्य विवरण